शुक्रवार, 3 जनवरी 2014

AAP ki aandhee.

एक आंधी आयी "आप "  की !
दिल्ली से कांग्रेस साफ़ की !
मुहिम  ये उसकी खास थी !
दिल्ली की कुर्सी उसके पास थी !
अंदाज उनका खासो आम है !
विरोधियों का नेटवर्क जाम है !
चर्चा उनकी सुबह शाम है !
न्यूज़ चैनलो का न दूजा काम है !
यही तो उनका असली ईनाम है !
सभी चाहते आप से जुड़ना !
नहीं चाहते अब पीछे मुड़ना !
ठान ली  अब करना है काम !
दिन दोपहर सुबह शाम !
कुछ तो आये देश के काम !
चाहे कुछ भी हो अंजाम !

चाहे कुछ भी हो अंजाम ! 
जय हिन्द ! जय हिन्द ! जय हिन्द !